World's 1st Sindhi internet magazine

since 2001 in the srvice of Sindhyat

Award winner website SINDHYAT AWARD 2010

Akhil Bharat Sindhi Boli ain Sahit Sabha

Dear viewers, Jai Jhulelal
Sindhigulab.com
is a complete Arbi Sindhi Web magazine, It is the India's first magazine publishing monthly in Sindhi.
Some of its pages you can watch in Devnagari & English also.

21 January 1900

Asha Chand - DUBAI

Dada Murij Manghnani -DUBAI

Shri Notan Tolani Hongkong

Shri Lal Hardasani Hongkong

Shri Chetan Ramchandani-DUBAI

Shri Chandru Manghnani Mumbai

Shri Dilip Bulchandani-DUBAI

Follow us on

Free Sindhi Matrimonials

Regester & make Contact FREE

SINDHIYOG.com

Huge Collection of

Sindhi DVDs & CDs

Sindhi Films, Songs,

Dramas, Programs ...

Click here for LIST

Website developed by

Dilip Tekchandani

e-mail

Sindhi DVDs

& CDs

collection List

Custom Search

PROUD TO BE SINDHI

SINDHI

BOLI

 

कहाणी

 

ही छा थी व्यो

- भग॒वान बा॒बा॒णी​

       होटल जे रूम में सामान रखी जीअं ई बेअरो वापस वञण लाइ मुड़ियो, झमटमल झूड़ाणीअ खेसि सडे॒ चयो, " क्या आज का न्यूज़ पेपर मिल जाएगा ?"

       हाँ कयूं नहीं सर, कौन सा चाहिए हिन्दी, मराठी या अंग्रेज़ी ?"

       सिंधी नहीं मिलेगा ?"

       मिल तो जाएगा..... सर, लेकिन होटल में नहीं आता, बाहर से लेकर आना पड़ेगा

       तो ले आओ.. हिन्दू' डेली लाना।"

       मालूम है सर, यहां मुम्बई में एक ही तो सिंधी डेली पेपर मिलता है ... सर पेपर के ‍लिए पैसे ? ..."

       अड़े, बिल में जुड़वा देना ..

       बेअरो रूम खां बा॒हिर निकिरी व्यो ऐं वेंदे- वेंदे चवंदो व्यो सर चाहि और पानी भी पेपर के साथ ही ले आऊंगा।"

       ठीक है, .. कोई जल्दी नहीं है कार्यक्रम तो 11.00 बजे शुरू होगा

       झमटमल जी आदत हुई त जड॒हिं बि कंहिं बिए शहर वेंदो हो त उते होटल पहुची, सभ खां पहिरीं घर मोबाईल लगा॒ईंदो हो ऐं पंहिंजी पहुच सां गडु॒ होटल जे शान बाबति बि घरवारीअ खे जा॒ण डीं॒दो हो पर अजु॒ संदसि मोबाईल साणुसि कोन हा। नासिक में कुम्भ जे मेले में संदसि जेब मां को मोबाईल कढी व्यो हुउसि। होटल मां फ़ोनु करणु महांगो पवे हा, तंहिंकरे सोचियाईं त पोइ बा॒हिर निकिरी कंहिं दोस्त जे मोबाईल तां घर फ़ोनु कबो।

       बेअरे जे वञण खां पोइ झूड़ाणी सोफ़ा ते वेही रूम में रखियल हिक-हिक शइ खे ध्यान सां डि॒सण लगो -‍ फ़िर्ज़, एल.सी.डी., राइटिंग टेबल, कुर्सियूं, सोफ़ा-सेट... छा त इंटीरियर डेकोरेशन हुई कमरे जी! सभिनी शयुनि ते हिक नज़र विझी सोफ़ा तां उथियो ऐं अटैच लेट-बाथ जो दरु खोले अन्दर घिड़ियो। छा त बाथ रूम हो, टर्किश टॉवेल ऐं नैपकिन सलीक़े सां वेढ़ियल, शॉवर वारी साईड में हिक ताक़ ते रखियल हुआ। वाश बेसिन जे भरिसां ठहियल डेस्क ते बि॒नि नमूननि जे साबुणन खां सवाइ चार पंज नंढियूं शीशियूं रखियल हुयूं, जिनि में शैंपू, हेअर-कंडीशनर, हेअर-लोशन, बाडी-लोशन, बाडी-जेल वग़ैरह जहड़ियूं शयूं हुयूं। हुन हिक-हिक शीशीअ खे खणी उन्हनि ते लिखियल इबारत पढ़ी, खेनि उथिलाए-पुथिलाए डि॒सी सम्झण जी कोशिश कई।  वाक़ई, सरकारी इदारनि जी मेज़बानी त मञणी पवंदी,  होटल 4 स्टार खां घटि कान थी लगे॒!  ही शयूं हाणे मुंहिंजे कम जूं त आहिनि कीन .... पर इन्हनि जी क़ीमत त होटल जे बिल में जुड़ियल ई हूंदी,  न वापराइण सां पैसा त वापस कंदा कोन, खणी था हलूं घर।  बा॒रनि खे कमु अची वदियूं ... उहे बि त मौज वठनि सरकारी ऐशन जी, ऐं खेनि ख़बर पवे त असांजो बाबो केडो॒ वडो॒ माण्हू आहे ऐं संदसि केतिरी इज़त आहे शहर खां बा॒हिरा ... इएं पाण मुरादो गा॒ल्हाईंदे, उहे सभु शीशियूं ऐं हिकु साबुणु बु॒क में खणी बा॒हिर रूम में आयो ऐं जल्दी-जल्दी पंहिंजो सूट-केस खोले इहे सभु शयूं कपड़नि जे हेठि तरे में सोघियूं करे रखियाईं।

       हू डबल बेड जे बि॒न्ही विहाणन खे हिक बि॒ए मथां रखी अधु-लेटियल अंदाज़ में टेक डे॒ई वेठो. ख़बर नाहे बेअरो चांहि ऐं अख़बार खणी अचण में अञां केतिरी देरि लगा॒ईंदो? ... इएं अख़बार जो ध्यानु ईंदे ई ज़हन ते संदसि शहर मां शाया थींदड़ हिन्दी, सिंधी ऐं अंग्रेज़ी अख़बारुनि ऐं मख़ज़नुनि जो तस्सवुर तरी आयुस ऐं सोचणु लगो॒, इझो था शहर जे नेताउनि, समाज सुधारकन जे वाधायुनि जा फ़ोन अचणु शुरू थियनि। संदसि शहर में अक्सर ई ख़ुदि खे नेता, समाज सेवक, दान-दाता या साहित्यकार चवाराईंदड़ श्ख्‍सन मां कंहिं शख़्सु जो फ़ोटो या नालो जड॒हिं कंहिं अख़बार या मख़्ज़नि में छपजंदो आहे हू पाण बि सुबुहु जो अख़बार डि॒सणु शर्त ई फ़ोटो छपियल शख़्सु खे फ़ोनु करे वाधायूं डीं॒दो आहे ऐं वाधायूनि सां गडु॒ संदसि ज़रूरत खां वधीक साराह करे खेसि चौडो॒ल ते पिणु चाढ़ींदो आहे। इहा उधारी भाजी॒ आहे ऐं इहो फ़र्ज़ ब॒ई धुरियूं बख़ूबी निभाईंदियूं आहिनि।

       झमटमल झूड़ाणीअ जी शुरूअ खां ई आदत रही आहे त जीअं ई कंहिं सेमीनार, वर्कशॉप या बि॒ऐ कंहिं जलसे जो नींढ-पत्र खेसि मिलंदो आहे तीअं ई, सभ खां पहिरीं रेल्वे जी ए.सी सेकंड क्लास जूं ओट-मोट जूं टिकेटूं रिज़र्व कराए, उन्हनि जूं फ़ोटो-कापयूं कढाए सोघियूं करे रखंदो आहे। बि॒ए डीं॒हुं उहे टिकेटूं कैंसिल कराए स्लीपर क्लास जूं नयूं टिकेटूं ठहिराए छडीं॒दो आहे। अहिड़ी तरह हर दफ़े ए.सी ऐं स्लीपर क्लास जे भाड़े जे तफ़ावत मां पंहिंजे घर जी का न का शइ जोड़े वठंदो आहे। ऐं, वापसीअ ते जड॒हिं संदसि दोस्त साणुसि हाली-अहवाली थियण संदसि घर ईंदा आहिनि त हू फ़ख़ुर सां खेनि बु॒धाईंदो आहे त फ़लाणी शइ फ़लाणे सेमीनार/ वर्कशाप जी बचति मां जोड़ी अथमि।

       स्टेशन खां घरि अची प्रेस नोट त्यारु कंदो आहे। नींढ डि॒यण वारी संस्था कहिड़ी बि हुजे या कहिड़े बि लेवल जो प्रोग्रामु हुजे, पर प्रेस नोट में हू खेसि मिलियल नींढ-पत्र बाबति इएं जा॒णाईंदो आहे त इहो प्रोग्रामु नेशनल या इंटरनैशनल लेवल ते थी रहियो आहे ऐं उन प्रोग्राम में सिर्फ़ राष्ट्रीय दर्जे जे नामियारनि अदीबनि ऐं विद्वाननि खे ई घुरायो व्यो आहे ऐं सभ खां वडी॒ गा॒ल्हि त सजे॒ सूबे में अकेले झमटमल खे ई दावत मोकिली वेई आहे। हालांकि खेसि मिलियल नींढ-पत्र में डि॒नल कार्यक्रम जी विचूड़ में ई भलि त संदसि शहर जे बि॒यनि साहित्यकारनि जा नाला बि छो न शामिल थियल हुजनि।

       जेकड॒हिं अहिड़ो नींढ-पत्र खेसि हिकु ब॒ महिनो अगु॒वाट हासिलु थी व्यो, त पोइ अख़िबारुनि में इन विच में हिकु भेरो सागी॒ प्रेस-रिलीज़ वरी मोकिले छडीं॒दो ऐं जंहिं डीं॒हुं प्रोग्राम वारे शहर में वञण लाइ ट्रेन में चढ़दो त उन वक़्ति संदसि नंढे भाउ जी इहा ड्यूटी ब॒धी छडी॒ हुआईं त हू कैमेरा ऐं गुलन जा हार खणी स्टेशन ताईं साणुसि गडु॒ वञे ऐं गाडी॒ अचण ते वडे॒ भाउ खे ए.सी. वारी बोगीअ जे साम्हूं बिहारे,  हार पाराए संदसि फ़ोटो कढे।

       ट्रेन छुटण खां पोइ भाणसि उहा कैमेरा खणी सिधो फ़ोटो स्टूडियो ते ईंदो ऐं स्टेशन ते कढियल झमटमल झूड़ाणीअ जे फ़ोटनि जूं 40-50 कापियूं ठहिराए, प्रेस-रिलीज़ (जेका अक्सर झमटमल हिकु डीं॒हुं अगु॒ ई अजो॒की तारीख़ में पंहिंजे हथ सां ठाहे ज़ेराक्स कापियूं कराए रखंदो हो), जी हिक-हिक कापीअ सां स्टेपिल करे अगु॒ में ई एड्रेसूं लिखियल लिफ़ाफ़नि में विझंदो हो ऐं मकानी अख़बारुन जे एवज़्युनि जे घर या आफ़िस में उहे पहुचाईंदो हो ऐं शहर खां बा॒हिर वारयुनि अख़बारुनि ऐं मख़ज़नुनि वारनि लिफ़ाफ़नि खे पोस्ट जे दबे॒ में विझंदो हो।

       बि॒ए डीं॒हुं सभिनी मकानी अख़बारुन में रेल्वे स्टेशन ते गाडी॒अ भरिसां बीही हार पाए कढायल झमटमल जा फ़ोटो शदमद सां शाया थींदा हुआ जिनि सां गडु॒ न्यूज़ हूंदो हो त श्री झमटमल झूड़ाणी फ़लाणे प्रोग्राम में शरीक थियण लाइ काल्ह फ़लाणी गाडी॒अ सां फ़लाणे शहर लाइ रवानो थियो, खेसि अलविदा करण लाइ स्टेशन ते माण्हुनि जा हशाम अची हाज़ुरु थिया हुआ।

       इहो सिलसिलो केतिरनि ई सालनि खां हली रहियो हो। जड॒हिं बि झमटमल झूड़ाणी बा॒हिर कंहिं प्रोग्राम ते वेंदो हो त संदसि नंढो भाउ झूड़ाणीअ पारां त्यारु कयलु प्रेस नोट ऐं जेकड॒हिं कहिं सबबु झूड़ाणी पाण तयार करे न रखी वेंदो हो त ख़ुदि ई प्रेस नोट ठाहे अख़बारुन खे पहुचाईंदो हो।

       झूड़ाणीअ खे हिकु पुटु बि हो जेको प्राईवेट फ़र्म में नौकरी कंदो हो, खेसि कम तां मोटण में राति जा अठ-नव थी वेंदा हुआ जहिंकरे हू पीउ खे छड॒ण लाइ स्टेशन ते न वञी सघंदो हो। सो, अगर संदसि नंढो भाउ हिते कोन हूंदो हो त उन वक़्ति झूड़ाणीअ जे शहर मां रवानगीअ जा फ़ोटो कढी प्रेस ताईं पहुचाइण मुश्किल थी पंवदो हो। हूंअ त वक्तु पवणु ते प्रेस नोट ठाहे भाणसि कमु टपाए वठंदो हुओ, पर पुटसि खे सिंधी लिखणु-पढ़णु कोन ईंदी हुई ऐं न ई प्रेस नोट ठाहिण जो तजुर्बो होसि इन जो रस्तो झमटमल इहो कढियो हो त प्रेस नोट हू हाणि पाण एडवान्स में ई ठाहे छडीं॒दो हो जड॒हिं बि खेसि बा॒हिर वञिणो हूंदो हो त हिकु-ब॒ डीं॒हं अगु॒ अगि॒ली तारीख़ में प्रेस नोट ठाहे उन जूं फ़ोटो-कापियूं कराए लिफ़ाफ़ा ठाहे छडीं॒दो हो ऐं फोटोग्राफ्स पुराणा ई लगा॒ए छडीं॒दो हो। सभिनी लिफ़ाफ़नि ते एड्रेसूं विझी लिफ़ाफ़ा बंदि करे रखी छडीं॒दो हो ऐं घर वारीअ खे चई वेंदो हो त संदसि रवाना थियण खां पोइ उहे पोस्ट करे छडे॒।

       झमटमल जी हिक बी॒ बि आदत हुई; इहा हीअ त समाज, सियासत ऐं अदबी खेतिरनि में कंहिं उहिदे ते वेठल या आईंदह को उहिदो हासिलु करणु जी उमेद रखण वारनि शख़्सनि जे जनम ऐं शादीअ जी सालगिरह जे डीं॒हं ते खेनि वाधायूं डि॒यण जा ख़त बि अगु॒ में ई त्यारु करे रखंदो हो। जिनि शख़्सनि में घणी उमेद हूंदी हुअसि उन्हनि जी साराह में चापलूसीअ सां टुब॒टार लेख ऐं मज़मून बि ढिग॒नि में त्यार करे रखिया हुआईं कड॒हिं-कड॒हिं खेसि हफ़्ते-ड॒हनि डीं॒हनि लाइ बा॒हिर वञिणो पवंदो हो त खेसि बि॒नि-चइनि तारीख़ुनि जा अलग॒-अलग॒ लिफ़ाफ़ा ठाहिणा पवन्दा हुअसि।  अहिड़ी हालति में हू अलग॒-अलग॒ तारीख़ुनि सां वाबस्ता लिफ़ाफ़ा ठाहे हिक कब॒ट जे अलग॒-अलग॒ ताकनि ते रखंदो हो ऐं बा॒हिर वञण वक़्ति संदसि घरवारीअ खे बु॒धाए छडीं॒दो हो त कहिड़े डीं॒हुं कहिड़े ताक़ वारो लिफ़ाफ़ो रवानो करिणो आहे संदसि परपुठ घरवारी या पुटसि उहे लिफ़ाफ़ा पोस्ट करे छडीं॒दा हुआ।

       अटिकल महिनो खनु अगु॒ हिक डीं॒हुं मंझंदि जे वक़्त झमटमल पंहिंजे पढ़ाईअ वारे कमरे में वेही सोचे रहियो हो त अजु॒ ताईं हिन जेकी बि कम कया आहिनि उहे भली केतिरा बि मामूली छो न हुजनि ऐं उन्हनि कमनि सां संदसि सिर्फ़ नाले खां सवाइ॒ बि॒यो को वास्तो हुजे या न, उन्हनि खे मशहूरी डि॒यारण लाइ प्रेस जो सहारो पिए वरितो अथाईं, जंहिं में कामयाबु बि रहियो आहे। एतिरे क़दुर जो जड॒हिं साहुरे शहर इंदौर वेंदो आहे त उहा ख़बर बि कंहिं न कंहिं बहाने टल सां अख़बारुनि ज़रिए अवाम ताईं पहुचाईंदो आहे।

       हाणे संदसि नंढे भाउ जी तबीअत अलील हुअण करे हू खेसि इन कम में साथु कोन डे॒ई सघंदो हो ऐं संदसि पुट में त उहो चाढ़ो हुओ ई कोन। सोचींदे-सोचींदे अचानक संदसि मन ते हिकु ख़्यालु उभरी आयो त 'यार इन हालति में मुंहिंजे मरण खां पोइ, मुंहिंजे मौत जी ख़बर त अख़बारुनि में छपजंदी ई कान .... ऐं इएं थियो त उहो हकु वडो॒ अजूबो थींदो, त मिस्टर झमटमल झूड़ाणी, जंहिं जे हर कंहिं उथि-वेहु ऐं अचु-वञु जी ख़बर दुनिया ताईं अख़बारुनि ज़रिए पेई पहुचंदी आहे, अहिड़ी हस्तीअ जे मौत जो ज़िक्रु प्रेस में न थिए .. त इहा त संदसि लाइ मरण खां पोइ बि मरण जहिड़ी गा॒ल्हि थींदी ! ... इन जो को न को बिलो त करिणो ई पवंदो ! ...

       सोचींदे-सोचींदे संदसि मन में हिकु वीचारु आयो ऐं चपनि ते मुशक अची वियसि। संदसि मुरझायलु चहिरो गुलाब जे गुल वांगुरु टिड़ी प्यो। हिकदम राइटिंग-टेबल ते आयो ऐं कुर्सीअ ते वेही पैड कढी लिखणु शुरू कयाईं। अधु पेजु खनु लिखी उनखे पढ़ियाईं, पर तस्कीन कान थियसि ऐं उनखे फाड़े फिटो कयाईं। वरी बि॒ए पने ते कुझु लिखियाईं, लिखी कुझु सोचियाईं ऐं सोचे वरी लिखियाईं। लिखियलु वरी पढ़ियाईं ऐं समझ में न आयुस त फाड़े वरी बि॒यो पनो लिखियाईं। अहिड़ीअ तरह टे-चार दफ़ा लिखी फाड़ियाईं। आख़िर पंजों भेरो लिखी जड॒हिं पढ़ियाईं त दिलि जाइ थियसि। संदसि मुंहं ते मुर्क आई ऐं खुशीअ विचां उहो काग़ज़ु खणी फ़ोटोकापीअ जे दुकान तां 40-50 कापियूं कराए आयो।  पोइ ओतिरा ई लिफ़ाफ़ा ठाहे उन्हनि ते समूरे भारत ऐं सिंधु मां शाया थींदड़ किनि अख़िबारुनि ऐं मख़्ज़नुनि जूं एड्रेसूं  लिखी उन्हनि में प्रेस नोट सां गडु॒ पंहिंजे जुवानीअ वारे फ़ोटो जी बि हिक-हिक कापी विझी लिफ़ाफ़ा बंदि करे उन्हनि ते पोस्टल स्टैम्प चंबिड़ाए अलमारीअ जे हिक ताक़ ते रखी छडि॒याईं। हाणे संदसि चहिरे ते शांती हुई।... दिमाग़ में ख़्यालु आयुसि त घरवारीअ खे इन बाबति बु॒धाए छडि॒यां। पर पोइ सोचियाईं त कहिड़ी तकड़ि आहे, कहिड़ो अजु॒ थो मरां !.. वरी कड॒हिं बु॒धाए छडीं॒दोमांसि !!.

       हिन सेमीनार में बहिरो वठण लाइ हू हिकु हफ़्तो अगु॒ ई घरां निकितो हो। सोचियो हुआईं त नासिक में कुम्भ जो मेलो लग॒लु आहे, छो न रस्ते में सरकारी ख़र्च ते उन जो पुञु बि कमाईंदो हलिजे।

       ईंदड़ हफ़्ते 3-4 साहित्यकारनि जा जन्म डीं॒हं बि अची रहिया हुआ जिनि ते हुन लेख लिखी रखिया हुआ। उहे लिफ़ाफ़ा ऐं संदसि भोपाल मां मुम्बई सेमीनार लाइ विदाईअ वारी प्रेस रिलीज़ हमेशा वांगुरु ठाहे लिफ़ाफ़नि में बंदि करे अलमारीअ में लिफ़ाफ़ा अलग॒-अलग॒ ताकनि ते रखी आयो हो ऐं घरां निकरण वक़्ति जोणसि खे तड़-तकड़ि में बु॒धायो हुआईं त कंहिं डीं॒हुं कहिड़ो लिफ़ाफ़ो मोकलिणो आहे। हूअ बि हुई घर जे कम में मश्ग़ूलु, सो बु॒धो न बु॒धे जहिड़ो करे जवाबु डि॒नाईंसि हा करे छडीं॒दियसि। जोणसि जे दिमाग़ में हो त कहिड़ो बि लिफ़ाफ़ो व्यो त छा थींदो, वधि में वधि का ख़बर या लेखु हिकु डीं॒हुं हेडां॒हु जो होडां॒हु छपिबो बि॒यो छा! ... इन सां कंहिंखे कहिड़ो फ़र्क़ु पवंदो !! छपजंदो त सही।

       झूड़ाणीअ जे अनुमान मुताबिक़ संदसि नासिक ऐं मुम्बई यात्रा वारी ख़बर वारो लिफ़ाफ़ो काल्ह ताईं मुम्बई पहुची व्यो हूंदो ऐं इन हिसाब सां अजु॒ उहा न्यूज़ छपिजणु घुरिजे। इनकरे ई हू अजो॒की सिंधी अख़बार डि॒सण लाइ उतावलो हो।

       दर जी काल-बेल वज॒ण ते संदसि विचारधारा टुटी, उथी दरु खोलियाईं त साम्हूं बेअरो बीठो हो चांहि ऐं पेपर खणी। अंदरि ईंदे चयाईं, " सर सिंधी पेपर तो नहीं मिला। पता नहीं आज ऐसी क्या ख़बर छपी है कि सिंधी न्यूज़ पेपर की सभी कॉपियां बिक गई ?"

       आज शहर में हम आएं हैं, उसी की ख़बर छपी होगी न!  झूड़ाणीअ खिलंदे चयो,  " कोई बात नहीं।" चांहिं ठाहिणु शुरू कयाईं। चांहिं पी बाथ-रूम जो रुख़ु कयाईं। सनानु-पाणी करे त्यारु थी इंटरकॉम ते ब्रेक-फ़ास्ट जो आर्डरु डि॒नाईं। नाश्तो अचण में, जीअं अक्सर वडि॒युनि होटलुनि में थींदो आहे, काफ़ी वक़्तु लगी॒ व्यो। जड॒हिं नाश्तो खाई, घड़ीअ तरफ़ डि॒ठाईं त रड़ि निकिरी वियसि- ´अड़े, बाप ड़े! साढा यारहां थी व्या?  सेमीनार जे महूरत जो टाईम त 11.00 बजे हो। हितां खां सेमीनार वारी जग॒हि ताईं पहुचण में बि घटि में घटि 15-20 मिंट त लग॒दा ई!'  रूम खे लॉक करे तकिड़ो-तकिड़ो लिफ्ट सां हेठि लही रिसेप्शन काऊंटर ते रूम जी चाबी॒ जमा कराए उतां पुछा कयाईं त होटल में बि॒या कहिड़ा साहित्यकार रुक्यल आहिनि त मालूमु थियुसि त सेमीनार में शामिल थींदड़नि मां हू अकेलो ई इन होटल में आहे बाक़ी बि॒यनि सभिनी जो बंदोबस्तु सेमीनार वारी जग॒हि ते ई गेस्ट-हाऊस में थियलु आहे। गेस्ट-हाऊस जाइ घटि थियण सबबि सिर्फ़ 4 महिमाननि जे रुकण जो बंदोबस्तु ‍हिन होटल में कयो व्यो हो, पर टिनि ज॒णनि जे अचण जो प्रोग्राम अचानक ब॒ डीं॒हं अगु॒ ई कैंसिल थी व्यो।

       झूड़ाणी अक्सर अहिड़नि मौकन ते आटो रिक्शा में बि॒यनि सां गडु॒ चढ़ी वेंदो हो ऐं ज़रूरत पवण ते भाड़ो बि॒यनि सां शेयर कंदो हो। घणो करे त किरायो बि॒या साथी ई भरींदा हुआ ऐं शेयर खांउसि कोन घुरंदा हुआ। अहिड़ी तरह मुफ़्त में मज़ा माणण जी गा॒ल्हि यादि करे हू उदास थी व्यो त अजु॒ आटो रिक्शा जो समूरो किरायो खेसि ई भरिणो पंवदो। पर 'मरता कया न करता '... हू तकिड़ो-तकिड़ो होटल खां बा॒हिर आटो-रिक्शा स्टैंड ते आयों  ऐं हिक आटो रिक्शा में चढ़ी प्रोग्राम वारे हंध तरफ़ रवानो थियो। उते पहुची आटो मां लही साम्हूं निहारियाईं, काफ़ी वडो॒ पांडाल हो, चौतरफ़ कपड़े जे कनातुनि सां घेड़ियलु; जंहिं करे अंदरि जो नज़ारो बा॒हिर डि॒सण कोन थे आयो। बाक़ी लाऊड-स्पीकर जो आवाज़ु ज़रूर बा॒हिर ताईं बु॒धण में अची रहियो हो। आटो वारे खे भाड़ो चुकाए हली करे जीअं ई टेंट जे थोरो नज़दीक पहुतो त खेसि स्पीकर ते संदसि नालो बु॒धण में आयो। माईक ते को चई रहियो हो- झमटमल झूड़ाणीअ जी हिक ख़ासियत सभिनी खे यादि रहंदी त हुन सभिनी साहित्यकारनि जी साराह में मज़मून लिख्या आहिनि.. ।  इहे लफ़्ज़ बु॒धी झूड़ाणी मन ई मन ख़ुश थियणु लगो॒ त परपुठ बि संदसि साराह थी रही आहे, संदसि महिनत बेकार कान वेई आहे। उन्हनि वीचारनि में हू लाऊड-स्पीकर तां ईंदड़ वधीक लफ़्ज़ कोन झटे सघियो।

       पंडाल जो अगि॒यों गेटु बंदि हो। पुठिएं गेट ते अची जीअं ई हू अंदरि घिड़ियो त डि॒ठाईं त अंदरि सभु उथी करे शान्तीअ सां कंहिंखे श्रद्धांजलि डि॒यण वारे अंदाज़ में बीठा हुआ। मजबूरीअ में हू बि पछाड़ीअ वारी क़तार में पियल हिक ख़ाली कुर्सीअ भरिसां हथ जोड़े बीही रहियो। हूंअ त जिते बि हू वेंदो आहे त घणो करे वक़्त खां पहिरीं पहुची, पहिरीं क़तार में वञी कुर्सी विलारींदो आहे, पर अजु॒ मजबूरी हुई। सजो॒ हालु भरिजी चुको हो। पुठियां बि सिर्फ़ कुझ ई कुर्सियूं ख़ाली बचिचूं हुयूं। हुन नज़र फेराई पर आसपास वारियुनि 4-5 क़तारुनि ताईं संदसि सुञाणप वारी का शिक्लि नज़र न आयसि। अक्सर जीअं थींदो आहे त बा॒हिरां आयल महिमान ऐं मकानी मुअज़िज़ु शख़्स पहिरियुनि टिनि चइनि लाईनुनि में वेही वेंदा आहिनि, हिते बि इएं ई हो। पछाड़ीअ वारियुनि क़तारुनि में लो-प्रोफाईल मकानी माण्हू वेठा हुआ। कोशिश करण ते बि उन्हनि में खेसि को सुञातलु चहिरो डि॒सण में न आयो।

       बि॒नि मिन्टनि खां पोइ श्रद्धांजलि पूरी थी। माईक तां ओ..ऽ..ऽ..ऽ..म शां..ऽ..ऽ....ति.. जो उचार थियण खां पोइ सभु माण्हू पंहिंजियुनि कुर्सियुनि ते वेही रहिया। झूड़ाणी बि संदसि भरिसां पियल कुर्सीअ ते वेही रहियो ऐं मंच तरफ़ नज़र फेरियाईं, उते वेठल सभु शख़्सियतूं संदसि जा॒तल-सुञातल हुयूं पर संदसि कुर्सी मंच तां एतिरो त परे हुई जो स्टेज ते वेठल माण्हू खेसि डि॒सी नथे सघिया। मंच जी हिक कुंड ते माता सरस्वती ऐं झूलेलाल जे वडि॒युन तस्वीरुनि भरिसां हिक नंढी तस्वीर रखियल हुई जंहिं ते पिणु गुलन जूं माल्हाऊं चढ़ियल हुयूं जहिंकरे एतिरो परियां इहा तस्वीर साफ़ु डि॒सण में न ‍पिए आई त कंहिंजी आहे। झूड़ाणीअ अनुमान लगा॒यो त जंहिं शख़्स खे हींअर श्रद्धांजलि डि॒नी वेई, तस्वीर उन्हीअ ई शख़्स जी हूंदी।

       एतिरे में माईक ते अनाऊन्समेंट थी, " कार्यक्रम में थोरी तब्दीली कई वेई आहे। हिन महूरती सेशन खां पोइ टी-ब्रेक आहे ऐं टी-ब्रेक खां पोइ जेको सेशन थींदो उहो पूरो सेशन झमटमल झूड़ाणीअ खे समर्पित रहंदो।"

       इहो बु॒धी झूड़ाणीअ जी ब॒टी ई टिड़ी पेई। खूशीअ विचां हू कुर्सीअ तां जीअं ई उथियो थे त संदसि कननि ते अनाऊंसर जो अगि॒लो जुमलो प्यो, " सदा हयात झमटमल झूड़ाणीअ बाबति जेको बि शख़्सु गा॒ल्हाइण चाहे उहो पंहिंजो नालो टी-ब्रेक में मंच ते नोटु कराए सघे थो।"  इहो बु॒धंदे ई झूड़ाणीअ जे वात मां रड़ि निकती पर इहा रड़ि संदसि निड़ीअ में ई अटिकी रहिजी वेई जड॒हिं संदसि नज़र संदसि भरि में वेठल शख़्स जे हथ में रखियल 'हिन्दू' अख़बार ते पेई - हेडिंग हुई :

हिंदु सिंधु में मशहूर नाम्यारे अदीब ऐं मुहक़िक़ झमटमल झूड़ाणीअ जो ओचितो सुर्ग॒वास

साहितिक जग॒त में शौक़ जी लहर, समूरी दुनिया मां शौक़ संदेश अची रहिया आहिनि

भोपाल, काल्होको डीं॒हुं सिंधी साहित्य जग॒त लाइ उन वक़्ति हिक कारे डीं॒हं जे रूप में दर्ज थी व्यो जड॒हिं पंहिंजे लिखिणीअ सां हिंदु-सिंधु में वाज॒ट वजा॒ईंदड़ झमटमल झूड़ाणीअ हिन फ़ानी दुनिया खे अचानक अलविदा कयो श्री झूड़ाणीअ जे मौत जो बु॒धी सजे॒ शहर में शौक़ जी लहर छांइजी वेई ऐं हशाम माण्हुनि जा सुर्ग॒वासीअ जो आख़िरीन दर्शनु करण लाइ संदसि घर तरफ़ कूच करण लगा॒। मकानी निज़ाम खे इंतज़ाम संभालण में काफ़ी दिक़्क़तूं दरपेशि आयूं। झूड़ाणीअ जी अंतिम-यात्रा में शामिल थियण लाइ केतिरनि दुकानदारनि पंहिंजा धंधा बंदि रखिया ऐं सरकारी कार्मचारियुनि पंहिंज्युनि आफ़ीसुनि मां मोकल वरिती। सदा हयात झमटमल झूड़ाणीअ खे शहर जे सियासी, समाजी ऐं अदबी हलक़न जे सभिनी वडि॒युनि हस्तियुनि श्रद्धांजली डींदे संदसि बे-वक़्ते सुर्ग॒वास ते दुखु ज़ाहिर कयो आहे। श्रद्धांजली डि॒यण वारा एतिरा त घणा आहिनि जो असां सभिनी जा नाला हिते डे॒ई नथा सघूं।

       इहो पढ़ंदे ई झमटमल झूवड़ाणी उते ई कुर्सीअ ते ढुरिकी प्यो।

 

Bhagwan Babani,

B-14, Lakecity Enclave,

St. Hirdaram Nagar,

Bhopal- 462030

 

Mob: 9893397340

Email: bhagwanbabani@gmail.com